Breaking News
Home / Recent / सहरसा: सौरबाजार प्रखंड अंतर्गत हनुमान नगर चकला पेट्रोल पंप स्थित पुल बना मौत का घर!

सहरसा: सौरबाजार प्रखंड अंतर्गत हनुमान नगर चकला पेट्रोल पंप स्थित पुल बना मौत का घर!

सहरसा: सौरबाजार प्रखंड अंतर्गत हनुमान नगर चकला पेट्रोल पंप स्थित पुल बना मौत का घर! देखें खास रिपोर्ट

सहरसा – सौर बाजार प्रखंड अंतर्गत हनुमान नगर चकला गाँव की खतरनाक पुल का खास रिपोर्ट, जहाँ आए दिन लगातार दुर्घटना होती रहती है। इस पुल का निर्माण वर्ष 2014 ईo में पूरा हुआ। निर्माण होने के बाद कोई ऐसा माह न होगा जिसमें कम -से -कम 5 से 6 दुर्घटना घटित न हुआ हो। कुछ ऐसा ही हुआ 6 जुलाई 2019 की सुबह करीब 6 बजे। सुहथ गाँव की महादेवी अपने मायके सदर थाना क्षेत्र के भगवानपुर से अपने भाई के साथ बाइक पर सवार होकर अपने गाँव सुहथ जा रही थी। हनुमान नगर चकला पेट्रोल पंप के समीप खतरनाक पुल पर जाकर दुर्घटनाग्रस्त हो गयी और उसकी मौत मौके पर ही हो गयी। वहीं बाइक चालक जख्मी हो गया। इसी तरह पिछले साल 5 मार्च 2018 को सुहथ गाँव के ही कारी यादव के 16 वर्षीय पुत्र दिलखुश कुमार के साथ भी यही घटना घटी। घर लौटने के क्रम में चकला गाँव के पेट्रोल पंप के समीप इसी पुल पर अचानक बाइक के अनियंत्रित हो जाने के कारण दिलखुश की मौत हो गई जबकि सवार अन्य युवक घायल हो गया।

घटना की जानकारी मिलने पर स्थानीय ग्रामीणों के सहयोग से दोनों को उपचार के लिए नजदीकी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र सौर बाजार पहुँचाया गया, जहाँ से उन्हें सहरसा के लिए रेफर कर दिया गया।
कुछ महीने पहले भी एक और दुर्घटना हुई थी जिसमें अपने रिश्तेदार की शादी में शरीक होने जा रहे एक युवक का हाथ टूट गया। पिछले वर्ष इसी पुल पर एक बोलेरो और एक मोटरसाइकिल के अनियंत्रित हो जाने के कारण दोनों आपस में टकरा गई जिसमें एक की मौत मौके पर ही हो गयी जबकि एक की मौत इलाज के दौरान हो गयी। इस तरह अभी तक सैकड़ों घटनाएँ घटित हो चुकी है। इन सभी घटना का कारण पुल के ढलान में एकाएक उठाव का होना है। अगर इस उठाव को सही कर दिया जाय तो दुर्घटना की स्थिति समाप्त हो जाएगी, लेकिन वर्तमान परिदृश्य में इस तरह की सैकड़ों घटनाएँ होने के बावजूद प्रशासन और पथ निर्माण विभाग इस विषय को नजरअंदाज करती दिख रही है। कल (6 जुलाई 2019) घंटों जाम के बाद थानाध्यक्ष और अंचलाधिकारी पहुंचे और उन्हें मुआवजा देने की बात कही। लेकिन किसी ने भी पुल को सही करवाने को लेकर कोई आश्वासन नहीं दिया।
दिन में कम-से-कम पाँच बार रोड एम्बुलेन्स के आने-जाने का सिलसिला लगा रहता है, पर इस पर कोई ध्यान नहीं दिया जाता है।
प्रशासन और पथ निर्माण विभाग द्वारा नजरअंदाज की यह स्थिति सरकार के काम-काज के प्रति सवाल उठाता है। शायद आज वह पुल सही होता तो भारत के ये भविष्य काल के गाल में नहीं समाये होते। पथ निर्माण विभाग को इस विषय पर गंभीरता बरतनी चाहिए और जल्द ही पुल का मरम्मत करवाना चाहिए अन्यथा समाज को इससे और क्षति का सामना करना पड़ सकता है।

About Gajendra Kumar

mm

Check Also

सुपौल :- सरायगढ़ की शिक्षिका टाप100वूमन अचीवर ऑफ इंडिया बबीता कुमारी ने अपने शादी के 24 वे सालगिरह पर अंबेडकर पार्क में रविवार को दो दर्जन वृृक्ष लगाकर , लोगों को किया जागरूक, कहा हर शुुुभअवसर पर लगाएं पौधेंं  ।

सरायगढ़ की शिक्षिका टाप100वूमन अचीवर ऑफ इंडिया बबीता कुमारी ने अपने शादी के 24 वे …