Breaking News
Home / Recent / तुल पकड़ने लगा नवसृजित विद्यालय नवटोलिया खटहा का मामला! युवा शक्ति के प्रदेश अध्यक्ष नागेंद्र सिंह त्यागी के नेतृत्व में जिला पदाधिकारी से मिला शिष्टमंडल, कहा- किस आका के दबाव में अपर मुख्य सचिव शिक्षा विभाग पटना के आदेश का नहीं हुआ अनुपालन? जिला प्रशासन अविलंब शिफ्ट करें विद्यालय, अन्यथा होगी आर-पार की लड़ाई…

तुल पकड़ने लगा नवसृजित विद्यालय नवटोलिया खटहा का मामला! युवा शक्ति के प्रदेश अध्यक्ष नागेंद्र सिंह त्यागी के नेतृत्व में जिला पदाधिकारी से मिला शिष्टमंडल, कहा- किस आका के दबाव में अपर मुख्य सचिव शिक्षा विभाग पटना के आदेश का नहीं हुआ अनुपालन? जिला प्रशासन अविलंब शिफ्ट करें विद्यालय, अन्यथा होगी आर-पार की लड़ाई…

खगड़िया | आज दिनांक 14-10-2019 को युवा शक्ति के प्रदेश अध्यक्ष नागेंद्र सिंह त्यागी के नेतृत्व में एक शिष्टमंडल जिला पदाधिकारी से मिल कर नवसृजित विद्यालय नवटोलिया खटहा को मध्य विद्यालय खटहा में शिफ्ट करने की मांग किया। जिला पदाधिकारी से मिलकर निकलने के बाद युवा शक्ति के प्रदेश अध्यक्ष नागेंद्र सिंह त्यागी ने कहा कि जिला पदाधिकारी से बात करने के दौरान जिलाधिकारी द्वारा यह कहा गया कि एक सप्ताह के अंदर विद्यालय को शिफ्ट करने के साथ हीं उच्चाधिकारी के आदेश का अवहेलना करने वाले शिक्षक पर कानूनी कार्रवाई की जाएगी। इस श्री त्यागी ने जिलाधिकारी से कहा कि पूर्व में भी आपसे कई बार मिला गया और हर बार आपके द्वारा कारवाई के लिए अग्रसारित भी किया गया। बाबजूद इसके अब तक कोई कार्रवाई नहीं हुई। कानून सबके लिए बराबर है या अलग-अलग है यह तय करना पड़ेगा। जब बिहार सरकार के अपर मुख्य सचिव शिक्षा विभाग पटना के निर्देश का अनुपालन नहीं हो तो इंसाफ की आशा किस पर किया जायेगा। यदि विद्यालय को शिफ्ट करना गैरकानूनी है तो यह स्पष्ट किया जाय। एक तरफ जहां उसी पत्र के आलोक में जिला के कई विद्यालय को शिफ्ट कर दिया गया है तो फिर किस आका के दबाव में नवसृजित विद्यालय नवटोलिया खटहा को शिफ्ट नहीं किया जा रहा है। जब जिला के कई पदाधिकारी के द्वारा कारवाई का आदेश निर्गत किया जाता है और जिला प्रशासन किसी मजबूरी में कारवाई नहीं करती है तो एकमात्र रास्ता बचता है आंदोलन। यह लड़ाई किसी एक शिक्षक के सवाल का बात नहीं रहा बल्कि यह लड़ाई भ्रष्टाचार को बढ़ावा देने वाला व्यावस्था के खिलाफ होगा। इसके अंतर्गत पदाधिकारी हो या राजनेता हो, सबके खिलाफ आर पार की लड़ाई लड़ने के लिए बाध्य होंगे। इन्होंने जिला प्रशासन को चेतावनी देते हुए कहा कि एक सप्ताह के अंदर यदि विद्यालय शिफ्ट नहीं किया गया साथ हीं दोषी शिक्षक को बर्खास्त नहीं किया गया तो जिलाधिकारी कक्ष के सामने आमरण अनशन पर बैठने के लिए बाध्य होंगे। यदि सही व्यवस्था के लिए लड़ाई लड़ना जुर्म है तो हम कोई भी सजा भुगतने के लिए तैयार होंगे। शिष्टमंडल में जन अधिकार पार्टी के प्रदेश सचिव सुधांशु यादव, जाप के जिलाध्यक्ष कृष्णा नन्द यादव, युवा शक्ति के जिलाध्यक्ष चंदन कुमार सिंह, युवा शक्ति के कार्यकारी जिलाध्यक्ष अभय कुमार गुड्डू, जिला महासचिव राजेश यादव व मो. आलम राही, जिला सचिव पप्पू यादव, नीतीश कुमार, पवन कुमार, जाप के छात्र नेता प्रिंस कुमार यादव आदि मौजूद थे ।

About D K NIRALA

mm

Check Also

सहरसा :- सीएस ललन सिंह के निरीक्षण के बाद भी नहीं सुधरी अतिरिक्त स्वास्थ्य केंद्र मंगवार की हालात ।

सहरसा सोनवर्षा राज :- अस्पताल के बाहर घंटों बैठे रहे दर्जनों रोगी व गर्भवती महिलाएं, …