Breaking News
Home / Recent / मीर रिजवान जी ने सहरसा और सिमरी बख्तियारपुर में कन्हिया कुमार जी के साथ CAA और NRC का विरोध करते हुए विशाल जनसभा को संबोधित किया

मीर रिजवान जी ने सहरसा और सिमरी बख्तियारपुर में कन्हिया कुमार जी के साथ CAA और NRC का विरोध करते हुए विशाल जनसभा को संबोधित किया

सहरसा:- देश के युवा रोजगार मांग रहे हैं। जबकि सरकार धर्म के नाम पर नफरत का बीज बो रही है, ताकि जनता इसी में उलझी रहे। उक्त बातें जेएनयू छात्र संघ के पूर्व अध्यक्ष व सीपीआई के नेता कन्हैया कुमार ने कही। कन्हैया गुरुवार को पटेल मैदान में सीएए, एनआरसी व एनपीआर के खिलाफ आयोजित जनसभा में अपने जन गण मन यात्रा लेकर पहुंचे थे। उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार जुमलेबाजों की सरकार है। यह कहती कुछ और है और करती कुछ और है। विकास के मुद्दे पर यह सरकार पूरी तरह से फेल है। देश के युवा रोजगार मांग रहे हैं और सरकार एनआरसी में उन्हें उलझा कर एक दूसरे के प्रति द्वेष उत्पन्न कर रही है। इसलिए आज जरूरी है कि नागरिकता बचाओ और देश बचाओ की आवाज को बुलंद किया जाए। सरकार काला धन लाने, गरीबों के खाते में 15 लाख देने, प्रतिवर्ष दो करोड़ नौकरी देने एवं किसानों के फसल का दुगना दाम देने संबंधित सभी मामले पर फेल साबित हुई है। सीएए, एनपीआर एवं एनआरसी पर प्रहार करते हुए उन्होंने कहा कि यह तो वही स्थिति हो गई कि हम ट्रेन में सफर कर रहे हो और सीट के ऊपर का पंखा खराब हो। इसकी शिकायत टीटी से किए जाने के बाद उसके द्वारा पहले टिकट दिखाने की मांग कर दी जाए। एनआरसी से नाम कटने के बाद भी यही स्थिति उत्पन्न होगी। ऐसी स्थिति में हमें अपने जमीन जायदाद से हाथ धोना पड़ेगा, इसलिए एनपीआर एवं एनआरसी का विरोध पुरजोर तरीके से किया जा रहा है। जिसको लेकर चंपारण की धरती से इस आंदोलन का शुभारंभ किया गया है, जिसका समापन आगामी 29 फरवरी को पटना के गांधी मैदान से बिगुल फूंक कर किया जाएगा। केंद्र सरकार चाहे जितना भी अपना पीठ थपथपा ले लेकिन उसके विकास का ढोल फट चुका है। किसान खेत में मर रहे हैं तो सैनिक सीमा पर गोली खा रहे हैं। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार धर्म के नाम पर एनपीआर एवं एनआरसी के माध्यम से नफरत फैला रही है। सीएए एवं एनआरसी संविधान की आत्मा एवं प्रस्तावना पर हमला है। कन्हैया ने कहा कि सरकार वादा खिलाफी कर जनता को नफरत की आग में झोंक रही है। कालाधन वापस लाने के मुद्दे पर भी सरकार खेल रही है। उसके द्वारा नोटबंदी का उठाए गए कदम से भी काला धन वापस नहीं आया। सरकार बेरोजगारी रोक पाने में विफल तो है ही साथ ही महिलाओं पर अत्याचार भी रोक पाने में विफल है। सरकार बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ का नारा देती है। लेकिन आज महिलाओं पर अत्याचार काफी बढ़ा हुआ है। वहीं सुपौल में अपने काफिले पर हमला पर तीखी प्रतिक्रिया देते हुए उन्होंने कहा कि हिंदू धर्म में अतिथि देवो भव कहा गया है। उनके काफिले पर हमला कहां का न्याय है। सरकार लोगों को बरगला रही है कि धर्म खतरे में है। अगर धर्म और अपने भगवान पर उन्हें भरोसा है तो सत्य से क्यों डर रहे हैं। आने वाला चुनाव सरकार को करारा जवाब देगा। क्योंकि एक बड़े आदमी और एक गरीब का भी वोट बराबर है। यह लोकतंत्र की ताकत है। मंच से उन्होंने गृह मंत्री अमित शाह को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि मोटा भाई सीएए को नागरिकता देने का कानून बताते हैं, लेने का नहीं। लेकिन असम में लागू किए जाने के बाद 19 लाख लोग इसे बाहर हो गए। जिसमें 15 लाख सिर्फ हिंदू समुदाय के लोग हैं। अब जुमले की सरकार नहीं चलने वाली है। लोजद जिलाध्यक्ष धनिकलाल मुखिया की अध्यक्षता में चली कार्यक्रम में मीर रिज़वान मौजूद थे।

About admin

Check Also

खगड़िया: डाॅ.विवेकानंद के सहयोग से बनेगा अग्नि पीड़ित परिवारों का आशियाना!! शहीद प्रभूनारायण अस्पताल की ओर डाॅ.विवेकानंद ने गोगरी प्रखंड के सहरौन गाँव के अग्नि-पीड़ितों के बीच किया छप्पर वितरण, कहा- अनवरत जारी रहेगा मदद..

खगड़िया | जिला के गोगरी प्रखंडन्तर्गत पौरा पंचायत के सहरौन गाँव में पिछले दिनों आग …